विश्व जूनियर एथलेटिक्स में पहला स्वर्ण, हिमा दास गोल्डमेडल हासिल कर बनी पहली पहली भारतीय महिला

विश्व जूनियर एथलेटिक्स में पहला स्वर्ण, हिमा दास गोल्डमेडल हासिल कर बनी पहली पहली भारतीय महिला

विश्व जूनियर एथलेटिक्स में पहला स्वर्ण, हिमा दास गोल्डमेडल हासिल कर बनी पहली पहली भारतीय महिला,

वाकई में ऐसी गौरव करने वाली न्यूज़ कम ही आती है हिमा दास ने वाकई कमाल कर दिया जब वह आईएएएफ विश्व अंडर 20 एथलेटिक्स चैंपियनशिप के महिला 400 मीटर फाइनल में जीत के साथ वर्ल्ड लेवल पर गोल्ड मैडल जीतकर उन्होंने अपना नाम इतिहास में दर्ज़ करवाया । फुटबॉल की टीम जहा क्वालीफाई भी नहीं कर पाती वह सिंगल वीमेन टीम ने कमाल कर दिया वंडरफुल है

खिताब की स्ट्रांग कन्टेंडर 18 साल की हिमा दास ने 51 .46 सेकेंड केटाइम लिया स्वर्ण पदक जीता उसके बाद तो भारतीय खेमे ने जबर्दस्त जश्न मनाया। वह हालांकि 51 .13 सेकेंड के अपने पर्सनल best प्रदर्शन सेटच नहीं कर पायी ।

भारत की और से हिमा दास पहली ऐसी महिला है जिन्होंने विश्व चैंपियनशिप के किसी भी स्तर पर स्वर्ण पदक जीता है । इससे पहले कोई नहीं | वह विश्व स्तर पर ट्रैक रन में गोल्डमेडल जीतने वाली फर्स्ट भारतीय खिलाड़ी हैं।

वह फोर्थ लेन में दौड़ रही हिमा दास अंतिम मोड़ के उपरान्त रोमानिया की आंद्रिया मिकलोस से पीछे हो रही थी लेकिन अंत समय में काफी तेजी दिखाते हुए वह बाकी धावकों से काफी आगे होतीगयी । मिकलोस ने 52 .07 सेकेंड के साथ सिल्वेमडल जीता जबकि अमेरिका की टेलर मेनसन ने 52.28 सेकेंड के साथ ब्रोंज पदक जीतकातर संतोष करना पड़ा ।

विश्व जूनियर एथलेटिक्स में पहला स्वर्ण, हिमा दास गोल्डमेडल हासिल कर बनी पहली पहली भारतीय महिला

वह भारत के अस्स्सम प्रान्त की है , हिमा दास ने दौड़ के बताया , ‘‘विश्व जूनियर चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीतकर मैं काफी खुश हूं। मैं स्वदेश में सभी भारतीयों को धन्यवाद देना चाहती हूं और उन्हें भी जो यहां मेरी सपोर्ट कर रहे थे।’

वह भाला फेंक के स्टार खिलाड़ी नीरज चोपड़ा की श्रेणी में शामिल हो गई , नीरज चोपड़ा ने 2016 में पिछली प्रतियोगिता में विश्व रिकार्ड प्रयास के साथ गोल्डमेडल लाये था।

वही विश्व जूनियर चैंपियनशिप में भारत के लिए पूर्व में सीमा पूनिया (2002 में चक्का फेंक में ब्रॉन्ज़ ) और नवजीत कौर ढिल्लों (2014 में चक्का फेंक में ब्रॉन्ज़ ) पदक जीत कर भारत का गौरव बड़ा चुके हैं।

हिमा दस मौजूदा अंडर 20 सत्र में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के कारण यहां गोल्डमेडल की प्रबल दावेदार थी। वह अप्रैल में गोल्ड कोस्ट में हुए राष्ट्रमंडल खेलों की 400 मीटर स्पर्धा में तत्कालीन भारतीय अंडर 20 रिकार्ड 51 . 32 सेकेंड केलेकर छठे स्थान पर आयी थी।

तदुपरांंत उन्होंने गुवाहाटी में हाल में राष्ट्रीय इंटरस्टेट चैंपियनशिप में उन्होंने 51.13 सेकेंड के साथ अपने इस रिकार्ड में सुधार किया। भारतीय एथलेटिक्स महासंघ के अध्यक्ष आदिले सुमारिवाला ने हिमा दास को स्वर्ण पदक जीतने के लिए बधाई दी थी ।

 

हिमा दास (नागाओन में 9 जनवरी 2000 को पैदा हुआ) एक भारतीय धावक है। वह किसी भी वैश्विक आयोजन में पदक जीतने वाले पहले भारतीय ट्रैक एथलीट हैं। हिमा दास ने फिनलैंड के टाम्परे में विश्व यू -20 चैंपियनशिप 2018 में महिला 400 मीटर में स्वर्ण पदक जीता, 51.46 सेकेंड का समय

Related posts

Leave a Comment

two + = seven