मर्दो की घटती जन संख्या चिंता का कारन #MardKoDardHoga

मर्दो की घटती जन संख्या चिंता का कारन #MardKoDardHoga

मर्दो की घटती जन संख्या चिंता का कारन #MardKoDardHoga,नेशनल हेल्थ प्रोफाइल के डाटा के अनुसार सुसाइड करने वाले आदमीओ में ३३% नंबर यंग एडल्टस के है , यंग एडल्ट में सुसाइड की प्रवत्ति ज्याडा पायी गयी है | तो इस तरीके से मेंस की जनसँख्या पर इफ़ेक्ट होना सुरु हुआ है , हालाँकि इसे रोकने के अथक प्रयास किये जा रहे है और बहुत से NGO और संसथान इसके लिए आलरेडी वर्क कर रहे है | लेकिन रोगी खुद ना पहचान पाने और डेप्रेसिपों पहुंच जाने के कारण इन लोगो तक पहुंच ने की मात्रा बहुत काम है , मतलब साफ़ है इससे बचना है तो अपने आस पास के एनवायरनमेंट को हेअल्थी रखे और फ़ालतू बर्डन से बचे |

इस ट्वीट में यह दिखाया गया है की पुरुष हर वर्ष लगभग 92000 पुरुष #LegalTerrorism की वजह से आत्महत्या करता है और यह महिलाओं की संख्या से दोगुना है।
#MardKoDardHoga यह हमारी सरकारों को कभी लगता नहीं क्यूँकि उनकी नज़र में तोह मर्द इंसान ही नहीं। हमारे देश में हर चीज़ का मंत्रालय और आयोग है पर पुरुषों के लिए कुछ भी नहीं।
अगर ट्वीट की सचाई की वास्तिविकता है तो ये बहुत ही सोचनीय विषय है और आने वाले टाइम में जेंडर बैलेंस बिगड़ जाएगा |

इंसान नही जिसे बेरहमी से मारा गया बरवाला कांड 2014 में काण्ड हो या कोई और इंसान आज इंसान के ही खून बहाना चाहता है चाहे वो लिंचिंग के केस या टेररिज्म में समूह के समूह उदा देना हो या म्यांमार द्वारा रोहिंग्या को ख़त्म कर खदेड़ना हो

जान सत्ता की ये पेपर कटाई जो ट्वीट की गयी है की पुरुष वर्ग भी कही ना कही सकते में है सिर्फ महिलाओ को नहीं पुरुषो को भी आने वाले समाया में सुरक्षा की जरुरत होगी

फेक केस करके पुरुचो को फ़साना हो या ब्लैक मेल करना हो इससे अधिक समुदाय कुंठित और मानसिक रोगी होते जा रहे है

जब कानून का इस्तेमाल गलत तरीक से किया जाये तब …

I can’t tolerate this anymore 😭😭😭 @ShraddhaKapoor Dp lagao 🙏😭😭😭 #MardKoDardHoga असल में ये हैशटैग इस श्रद्धा कप्पोर के वेरिफ़िएड अकाउंट से ट्वीट होते ही शुरू होगया हो सकता है ये किसी फिल्म के प्रमोशन की चाल हो , बूत इसके चलते यह टॉपिक एक चिंता का विषय जरूर है और सोचने और विचार करने की जरुरत है जहा एक तरह फीमेल जेंडर पर हो रहे अत्याचारों से परेशान है वही दूसरी और ये भी वायरस की तरह फैलना शुरू हो चूका है इसका जिम्मे दार काफी हद तक मेल पुरुष ही है ,वह सिर्फ काफी हद्द तक मेल जेंडर जिसका कुछः संख्या में मानसिक रूप से विकलांग हो चला है

Related posts